उत्तर प्रदेश विकलांग पेंशन योजना | ऑनलाइन फॉर्म डाउनलोड

उत्तर प्रदेश विकलांग पेंशन योजना

उत्तर प्रदेश सरकार ने विकलांग पेंशन योजना की शुरुआत की है। इसका मकसद दिव्यांगों को आर्थिक रूप से मजबूत करना है। उन्हें समाज की मुख्य धारा से जोड़ना भी है। विकलांगों के लिए इस योजना के तहत पेंशन का इंतजाम किया गया है, ताकि उनकी जिंदगी को रफ्तार मिल सके। योजना के लिए पात्रता क्या है, ऑनलाइन आवेदन किस तरह किया जा सकता है? आर्टिकल में इससे जुड़े सभी पहलुओं को साझा किया जा रहा है। खबर को अंत तक पढ़ें।     

योजना के लिए पात्रता

  • उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा संचालित विकलांग पेंशन योजना के लिए वही लोग आवेदन कर सकते हैं, जिनकी उम्र 18-28 साल के बीच है।
  • व्यक्ति की विकलांग्रस्ता भी 40 फीसदी से ज्यादा होनी चाहिए। आवेदन करने के लिए बीपीएल कार्ड धारक होना जरूरी है।
  • इस योजना के तहत शहरी इलाकों में रहने वाले वही लोग आवेदन कर सकते हैं, जिनकी वार्षिक आय 56460 तक इससे कम हो।
  • इसी तरह ग्रामीण इलाकों में रहने वाले वही लोग आवेदन कर सकते हैं, जिनकी वार्षिक आय 46080 तक या इससे कम हो।
  • जो लोग इस योजना के तहत आवेदन करना चाहते हैं, उन्हें किसी दूसरी योजना के तहत किसी भी तरह की पेंशन न मिल रही हो।

पेंशन की राशि

यूपी सरकार इस योजना के तहत लाभार्थी को 500 रुपये की वित्तीय सहायता देगी। पेंशन सीधे बैंक खातों में भेजी जाएगी। विकलांग पेंशन योजना का लाभ लेने के लिए ऑनलाइन आवेदन भी कर सकते हैं। उत्तर प्रदेश के मूल निवासी ही इस योजना के तहत आवेदन कर सकते हैं। योजना के तहत वही लोग आवेदन कर सकते हैं, जो 40 फीसदी से ज्यादा दिव्यांग हैं। उत्तर प्रदेश सरकार ने विकलांग पेंशन योजना को 2016 में शुरू किया था।

मूल निवासी होना जरूरी

विकलांग कल्याण योजना मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश के लिए है। यानी इस योजना का फायदा वही लोग उठा सकते हैं, जो उत्तर प्रदेश के मूल निवासी हैं। दूसरे प्रदेशों के लोग यूपी में इस योजना का फायदा नहीं उठा सकते हैं। उत्तर प्रदेश सरकार ने इसके लिए बाकायदा गाइडलाइन जारी की है। संबंधित विभागों को भेजे गए सर्कुलर में साफ कर दिया कि इस योजना के तहत लाभ लेने वालों की सूची तैयार की जाए।

जरूरी दस्तावेज

  • पारिवारिक सालाना आय प्रमाणपत्र
  • विकलांगता का प्रमाणपत्र
  • जन्म प्रमाणपत्र
  • राशन कार्ड
  • आधार कार्ड
  • बैंक पासबुक
  • पासपोर्ट साइज फोटो ग्राफ

ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं

  • उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा संचालित विकलांग पेंशन योजना के लाभ के लिए लोग ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।
  • ऑनलाइन आवेदन के लिए उत्तर प्रदेश सरकार की ऑफीशियल वेबसाइट sspy-up.gov.in पर विजिट करना होगा।
  • वेबसाइट पर विजिट करने के बाद विकलांग जन पेंशन या हैंडीकैप पेंशन का ऑप्शन दिखाई पड़ेगा, जिसपर क्लिक करना होगा।
  • स्क्रीन पर इसके बाद Apply Now का आप्शन दिखेगा, जिसपर क्लिक कर करना होगा। इसके बाद न्यू इंट्री का ऑप्शन दिखेगा, जिसपर क्लिक करना होगा।

सभी कॉलम को भरें

  • फार्म ओपन होने के बाद इसके सभी कॉलम को भरना होगा। नाम, घर का स्थायी या अस्थायी पता लिखना होगा।
  • जिला, गांव, तहसील, मुहल्ला का नाम भी लिखना होगा। जन्मतिथि, जन्म स्थान, शैक्षणिक योग्यता के बारे में भी बताना होगा।
  • बैंक विवरण, आय विवरण का होगा और विकलांगता का विवरण के नाम से कॉलम दिखाई देगा, जिन्हें भरना होगा।
  • पंजीकृत नंबर दिखाई पड़ेगा, जिसे लिखकर रख सकते हैं। फार्म भरने के बाद सभी जरूरी दस्तावेजों को इसके साथ अटैच करना होगा।
  • पासपोर्ट साइज फोटो और हस्ताक्षर भी अपलोड करना होगा। इसक बाद फाइनल सबमिट का ऑप्शन दिखाई पड़ेगा, जिसपर क्लिक कर दीजिए।

मेडिकल टेस्ट होगा

फार्म संबंधित विभागों के पास जमा हो जाएंगे। सभी जरूरी दस्तावेजों और प्रमाणपत्रों की जांच के बाद जिला प्रोबेशन अधिकारी, विकलांग कल्याण या फिर अधिकारी समाज कल्याण विभाग द्वारा आवेदकों को संबंधित विभागों के कार्यालय में बुलाया जाएगा। विकलांगता की पूरी जांच की जाएगी। जांच के बाद आवेदक को एक रसीद दी जाएगी। इस प्रक्रिया में एक महीने का वक्त लग सकता है। आवेदकों को परेशान होने की जरूरत नहीं है। ज्यादा समय लगने पर संबंधित विभाग के कार्यालय पर जाकर जानकारी हासिल की जा सकती है।

हर जिले में है कार्यालय

सभी जिले में विकास भवन है। विकास भवन के अदंर ही विकलांग समाज कल्याण विभाग, समाज कल्याण विभाग, प्रोबेशन अधिकारी कार्यालय हैं। इन कार्यालयों में पहुंचकर लोग अपने आवेदन से जुड़ी हर तरह की जानकारी हासिल कर सकते हैं। यहां जानकारी उपलब्ध कराने में बाध्यता जाहिर की जा रही है या फिर कर्मचारी जानबूझ कर देरी कर रहे हैं तो इसकी शिकायत जिलाधिकारी कार्यालय में की जा सकती है। विकास भवन में ही सीडीओ कार्यालय भी है। आवेदक यहां भी शिकायत कर सकते हैं।

दिव्यांगों को मिलेगी राहत

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा संचालित विकलांग पेंशन योजना का फायदा ज्यादा से ज्यादा दिव्यांग उठा सकते हैं। सरकार भी यही कह रही है कि इस योजना का मकसद ज्यादा से ज्यादा लोगों को फायदा पहुंचाना है। शासन की ओर से भेजे गए सर्कुलर में भी साफ कर दिया गया है कि दिव्यांगों को किसी भी तरह की दिक्कतों का सामना न करना पड़े। संबंधित विभागीय अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है।  

1000 रुपये हो सकती है पेंशन

खास बात यह है कि उत्तर प्रदेश सरकार विकलांगों के लिए पेंशन राशि बढ़ाने जा रही है। संबंधित विभागों के अधिकारियों के मुताबिक यूपी सरकार दिव्यांगों को हर महीने 500 रुपये की बजाय 1000 रुपये देने की योजना बना रही है। इससे संबंधित सर्कुलर जल्द ही संबंधित विभागों को भेजा सकता है। सर्कुलर जारी होते ही इसपर अमल भी शुरू कर दिया जाएगा।

Anand Sivastava