उत्तर प्रदेश श्रम विभाग पंजीकरण कैसे करे

UP Labour Online Registration

उत्तर प्रदेश सरकार ने मजदूरों के हित के लिए ढेर सारी योजनाओं की शुरुआत की है। श्रमिक सीधे तौर पर इन योजनाओं का लाभ हासिल कर सकते हैं। योजनाओं में श्रमिकों की सेहत का ख्याल तो रखा गया ही है, परिवार के सदस्यों की शिक्षा और शादी के लिए छोटी-बड़ी रकम की व्यवस्था भी की गई है। इसके लिए कार्ड बनाए जा रहे हैं, जिसके तहत ज्यादा से ज्यादा मजदूरों को लाभांवित किया जाएगा। मजदूरों को इसके लिए ऑनलाइन पंजीकरण भी कराना होगा। ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराने और कार्ड बनवाने के लिए क्या-क्या करना होगा? इस आर्टिकल में पूरी जानकारी दी जा रही है। खबर को अंत तक पढ़ें।     

उत्तर प्रदेश सरकार ने अब न्यू रजिस्ट्रेशन उत्तर प्रदेश निवेश मित्र पोर्टल (niveshmitra.up.nic.in) द्वारा लेने का फैसला किया है | इसकी प्रक्रिया विस्तार से बताई गयी है

मजदूर रजिस्ट्रेशन के लिए पात्रता

  • श्रम विभाग में वही मजदूर रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं, जो मूल रूप से देश के नागरिक और उत्तर प्रदेश के निवासी हैं।
  • श्रम विभाग में वही मजदूर पंजीकरण करा सकते हैं, जिनकी उम्र 18 से 60 साल के बीच है। 60 साल से ज्यादा उम्र के मजदूर पंजीकरण के लिए योग्य नहीं है।
  • परिवार के मुखिया के नाम पर ही श्रमिक कार्ड बनवाए जा सकते हैं। इसलिए पंजीकरण भी मुखिया का ही होगा।
  • योजना के तहत श्रमिक विभाग में ऐसे मजदूरों को ही पंजीकृत किया जाएगा, जो साल में तीन महीने तक श्रमिक कार्य में शामिल रहे हैं।

रजिस्ट्रेशन के फायदे

  • आवास योजना के तहत मकान बनाने के लिए एक लाख रुपये और मरम्मत के लिए 15 हजार रुपये की नकदी मदद हासिल कर सकते हैं।
  • मातृत्व हितलाभ योजना के तहत पंजीकृत महिलाओं को बालक की पैदाइश पर 10 और बालिका की पैदाइश पर 12 हजार रुपये की इमदादी मदद दी जाएगी।
  • श्रमिक परिवार के रूप में उन मेधावी छात्रों को कक्षा नौ से लेकर कक्षा 12 की पढ़ाई के दौरान 4 हजार से लेकर 8 हजार रुपये तक दिए जाएंगे।
  • स्नातक के रूप में इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे छात्र-छात्राओं को वजीफा के रूप में 22 हजार रुपये दिए जाएंगे।
  • बीए के छात्र-छात्राओं को 13 से लेकर 15 हजार और पोस्ट ग्रेजुएशन कर रहे विद्यार्थियों को 15-17 हजार रुपये दिए जाएंगे।
  • कन्या विवाह योजना के तहत दो बेटियों की शादी पर 50-55 हजार रुपये की इमदादी मदद की जाएगी।

UP Labour Card Registration and List

प्रदेश और केंद्र सरकार की ओर से संचालित योजनाओं का लाभ उठाने के लिए श्रमिकों को कार्ड बनवाना होगा। कार्ड बनने के बाद ही श्रमिक इन योजनाओं का लाभ हासिल कर सकते हैं। मजदूरों को कार्ड बनवाने से पहले श्रम विभाग में पंजीरण कराना होगा। पंजीकरण के बाद ही कार्ड बनाने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। इसलिए मजदूरों को चाहिए कि पहले वे पंजीरण के लिए आवेदन करें।

किन योजनाओं का उठा सकते हैं लाभ

  1. निर्माण कामगार अंतेयष्टि योजना
  2. पेंशन सहायता योजना
  3. निर्माण कामगार मृत्यु और विकलांगता सहायता योजना
  4. अक्षमता पेंशन योजना
  5. गंभीर बीमारी सहायता योजना
  6. आवास सहायता योजना
  7. चकित्सा सुविधा योजना
  8. कन्या विवाह योजना
  9. सौर उर्जा सहायता योजना
  10. आवासीय विद्यालीय योजना
  11. कौशल विकास तकनीक योजना
  12. मातृत्व हितलाभ योजना
  13. मेधावी छात्र पुरुस्कार योजना
  14. निर्माण कामगार बालिका मदद योजना
  15. शिशु हितलाभ योजना
  16. संत रविदास शिक्षा सहायता योजना
  17. निर्माण श्रमिक भोजन योजना

श्रमिक करा सकते हैं पंजीकरण

  1. कुआं खोदने वाले
  2. छप्पर छाने वाले
  3. बिल्डिंग का कार्य करने वाले
  4. राजमिस्त्री
  5. कारपेंटर का कार्य करने वाले
  6. प्लंबर
  7. लोहार
  8. पेंटर
  9. इलेक्ट्रीशियन
  10. सड़क निर्माण करने वाले
  11. हतौड़ा चलाने वाले
  12. मार्बल स्टोन कटर
  13. चट्टान तोड़ने वाले
  14. कंस्ट्रक्शन साइट पर चौकीदारी करने वाले
  15. चूना बनाने का कार्य करने वाले
  16. सीमेंट, बालू, पत्थर ढोने वाले
  17. विंडो फिटर
  18. भट्टों पर ईंट का निर्माण करने वाले

पंजीकरण के लिए जरूरी दस्तावेज

  • श्रमिक पंजीकरण के लिए आधार कार्ड की कॉपी को फार्म के साथ अटैच कर सकते हैं। राशन कार्ड को भी दिखाना होगा।
  • मतदाता पहचान पत्र, भामाशाह कार्ड आदि दस्तावेजों को भी पंजीकरण फार्म के साथ अटैच किया जा सकता है।
  • श्रमिक फार्म पर मोबाइल और बैंक खाता नंबर भी जरूर लिखें। सरकार की किसी भी योजना का लाभ हासिल करने के लिए खाता नंबर जरूरी है।
  • परिवार के सभी सदस्यों के पहचान पत्र की कॉपी के साथ मुखिया की पासपोर्ट साइज फोटो भी फार्म के साथ अटैच करने होंगे।

ऑनलाइन पंजीकरण कैसे करें | New Registration UP Nivesh Mitra Portal

  • ऑफीशियल वेबसाइट पर विजिट करने के बाद होम पेज पर अधिनियम प्रबंधन प्रणाली के नाम से लिंक दिखाई देगा, जिसपर क्लिक करना होगा।
  • स्क्रीन पर इसके बाद लेबर एक्ट मैनेजमेंट सिस्टम के नाम से लिंक मिलेगा, जिसपर क्लिक करना होगा।
  • आवेदन यहां भाषा का चयर कर सकते हैं। अगर वे हिंदी में फार्म भरना चाहते हैं तो हिंदी पर क्लिक करें और अगर अंग्रेजी में फार्म भरना चाहते हैं तो इंग्लिश कॉलम पर क्लिक कर सकते हैं।
  • अब आवेदक इसके बाद Register के लिए niveshmitra.up.nic.in पर जाना होगा। इसके बाद न्यू रजिस्ट्रेशन ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।

पासवर्ड डालकर लॉगिन करें

  • आवेदक इसके बाद यूजर नेम और पासवर्ड डालकर लॉगिन कर सकते हैं। यहां पंजीकरण ऑप्शन पर क्लिक कर सकते हैं।
  • “आई एग्री” ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। फार्म ओपन हो जाएगा। फार्म पर नाम, घर का स्थायी या अस्थायी पता लिखें।
  • जन्म स्थान, तिथि गांव, तहसील, जिला और प्रदेश का नाम भी लिखें। मोबाइल और बैंक खाता नंबर भी लिखना होगा।
  • सभी जरूरी कॉलम को भरने के बाद जरूरी दस्तावेजों को कंप्यूटर पर अपलोड करना होगा। आवेदक अपने हस्ताक्षर और पासपोर्ट साइज फोटो भी अपलोड करें।

फार्म के साथ अटैच करें

  • अपलोड की प्रक्रिया पूरी करने के बाद इन सभी दस्तावेजों को आवेदन फार्म के साथ अटैच करना होगा। ऑनलाइन मोड में चालान जमा किए जाएंगे।
  • पंजीकरण फीस की रसीद या चालान को भी फार्म के साथ अटैच करना होगा। ऑनलाइन पेमेंट के लिए क्रेडिट, डेबिट कार्ड और नेट बैंकिंग का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • ऑनलाइन मोड में जमा की गई रसीद का प्रिंट आउट निकालकर फार्म के साथ अटैच करना होगा। आवेदक इसके बाद सबमिट बटन पर प्रेस कर सकते हैं।
  • आवेदन पूरा हो जाएगा। श्रमिक इस तरह ऑनलाइन पंजीरण की प्रक्रिया को पूरा सकते हैं। वे इसके लिए संबंधित कार्यालय पर भी संपर्क कर सकते हैं।

बेहतर होगी मजदूरों की हालत

प्रदेश सरकार की ओर से संचालित ढेर सारी योजनाओं के जरिए मजदूरों की हालत सुधारने की बात की जा रही है। इसमें कोई दो राय नहीं है कि इसकी वजह से श्रमिकों को अपनी आर्थिक स्थिति को बेहतर करने में मदद भी मिलेगी। भारत में बड़ी संख्या में मजदूर हैं, जिनकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है। ऐसे में प्रदेश के इन श्रमिकों को फायदा मिलेगा। शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ने का मौका भी मिलेगा।

Anand Sivastava