प्रधानमंत्री वय वंदना योजना (PMVVY) | पात्रता, ऑनलाइन फॉर्म की जानकारी

प्रधानमंत्री वय वंदना योजना

अगर आप वरिष्ठ नागरिक हैं और पेंशन का इंतजाम अब तक नहीं हुआ है तो घबराने की जरूरत नहीं है। केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री वय वंदना योजना की शुरुआत की है। बुजुर्गों के लिए इस योजना के तहत मासिक पेंशन का इंतजाम किया गया है। उन्हें बढ़े हुए ब्याज दर के साथ पेंशन दी जाएगी। योजना के लिए पात्रता क्या है, निवेश और पेंशन की न्यूनतम राशि क्या है, आर्टिकल में इससे जुड़े सभी पहलुओं को साझा किया जा रहा है। जानने के लिए पूरे आर्टिकल को अंत तक पढ़ें।

प्रधानमंत्री वय वंदना कब हुई शुरुआत

प्रधानमंत्री वय वंदना योजना की शुरुआत 4 मई, 2017 में की गई थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस योजना को लांच किया था। वय वंदना स्कीम वरिष्ठ पेंशन बीमा योजना की तरह है। योजना का मकसद बुजुर्गों को आर्थिक सुरक्षा प्रदान करना है। इस योजना के तहत पेंशन वरिष्ठ नागरिकों को पेंशन दी जाएगी। वे अपने हिसाब से पेंशन की रकम और समय सीमा का चयन कर सकते हैं।

पेंशन के रूप में 10 हजार रुपये

सालाना पेंशन विकल्प चुनने पर 19 वर्ष के लिए 8.3 प्रतिशत की ब्याज दर से गारंटीशुदा रिटर्न मिलेगा। निवेश सीमा बढ़ाने पर वरिष्ठ नागरिकों को पेंशन के रूप में प्रति माह 10 हजार रुपये तक मिल सकते हैं। पीएमवीवीवाई में निवेश की समय सीमा को दो साल बढ़ाकर 31 मार्च, 2020 तक कर दिया गया है।

योजना के लिए पात्रता

प्रधानमंत्री वय वंदना योजना पूरी तरह सीनियर सिटजन यानी वरिष्ठ नागरिकों के लिए है। 60 वर्ष या इससे ज्यादा उम्र के लोग इस योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं। निवेश के लिए अधिकतम उम्र की सीमा नहीं है। यानी 60 साल के बाद किसी भी उम्र में इस योजना के लिए आवेदन किया जा सकता है। निवेश के लिए अधिकतम राशि 15 लाख रुपये तय की गई है। यानी लोग 15 लाख रुपये तक निवेश कर सकते हैं।

जरूरी दस्तावेज

  • आधार कार्ड या पासपोर्ट की कॉपी
  • पैन कार्ड की कॉपी
  • बैंक पासबुक के पहले पेज की फोटो कॉपी
  • खाता नंबर उसी बैंक का हो, जिसमें पेंशन चाहिए
  • निवेशों की पासपोर्ट साइज फोटो

न्यूनतम पेंशन के लिए डेढ़ लाख रुपये का निवेश

इस योजना के तहत एकमुश्त पैसा लगाया जा सकता है। यादी लोग एक बार में 15 लाख रुपये तक का निवेश कर सकते हैं। पेंशन के लिए समय सीमा का चयन किया जा सकता है। निवेशक अपनी सुविधा के हिसाब से सालाना, छमाही, तिमाही और मासिक पेंशन हासिल कर सकते हैं। न्यूनतम पेंशन के लिए कम से कम डेढ़ लाख रुपये निवेश करना होगा। जबकि अधिकतम पेंशन के लिए 15 लाख रुपये तक निवेश किए जा सकते हैं।

समय से पूर्व निकासी भी संभव

निवेशक इस योजना के तहत जमा किए गए पैसों को निर्धारित समय से पहले भी निकाल सकते हैं। किसी तरह की खास बीमारी, आपदा, घटना की स्थिति में ऐसा किया जा सकता है। इसके लिए कुछ औपचारिकता पूरी करनी होगी। समय से पूर्व निकासी पर निवेश की 98 फीसदी रकम ही वापस की जाएगी।

लोन की सुविधा भी है

प्रधानमंत्री वय वंदना योजना की खास बात यह है कि निवेशक द्वारा जमा की गई रकम पर लोन हासिल करने की सुविधा प्रदान भी की जाएगी। लोन की अधिकतम रकम खरीद मूल्य की 75 फीसदी से ज्यादा नहीं हो सकती है। निवेशकों को इसके लिए कागजी कारर्रवाई की पूरी करनी होगी। 

मृत्यु पर वापस होगी रकम

प्रधानमंत्री वय वंदना योजना के तहत डेथ बेनिफिट भी दिया जाएगा। इसके तहत निवेशकों को खरीद मूल्य वापस किया जाता है। यानी अगर इस दौरान किसी की मौत हो जाती है तो फिर परिवार के सदस्य को निवेश के रूप में पूरी रकम वापस की जाएगी। हालांकि इसके तहत स्कीम में सरकार की अन्य पेंशन योजनाओं की तरह टैक्स बेनिफिट नहीं मिलेगा। यानी लोगों को इसके तहत टैक्स में किसी तरह का छूट नहीं मिलेगा।

जरूरी जानकारी

  • पॉलिसी अवधि के अंत तक पेंशनर के गुजर-बसर के लिए खरीद मूल्य और अंतिम किस्त का भुगतान किया जाएगा।
  • पॉलिसी टर्म यानी दस साल के दौरान अगर किसी निवेशक की मौत हो जाती है तो परिवार के सदस्य को पर्चेज प्राइज यानी खरीद मूल्य वापस कर दिया जाएगा।
  • निवेशक अपनी सुविधा और खरीद मूल्य के हिसाब से सालाना, छमाही, तिमाही और मासिक पेंशन का चयन कर सकते हैं। 
  • पेंशन पेमेंट का भुगतान ईसीएस और एनईएफटी के जरिए किया जाएगा। योजना को सेवा कर छूट सूची के साथ जोड़ने पर विचार किया जा रहा है।

एलआईसी करेगा निगरानी

  • प्रधानमंत्री वय वंदना योजना की निगरानी लाइफ इंश्यारेंस कॉरपोरेशन यानी एलआईसी द्वारा की जाएगी। सर्कुलर में इसका जिक्र किया गया है।
  • वरिष्ठ नागरिकों को करीब 15 लाख रुपये के निवेश पर पेंशन के रूप में मासिक दस हजार रुपये मिल सकते हैं।
  • मासिक पेंशन के रूप में 5 हजार रुपये के लिए नागरिकों को करीब 7, 50,000 रुपये का निवेश करना होगा।
  • निवेश के लिए न्यूनतम आयु 60 वर्ष तय की गई है। 60 साल से कम उम्र के लोग इस योजना के तहत आवेदन नहीं कर सकते हैं।

कैसे करें आवेदन

  • प्रधानमंत्री वय वंदना योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है। आवेदक इसके लिए एलआईसी की ऑफीशियल वेबसाइट eterm.licindia.in पर विजिट कर सकते हैं।
  • ऑफीशियल वेबसाइट पर विजिट करने के बाद प्रधानमंत्री वय वंदना योजना ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • योजना ऑप्शन पर क्लिक करते ही फार्म ओपन हो जाएगा। लोग यहां फार्म पर जरूरी जानकारी दर्ज कर सकते हैं।
  • नाम, घर का स्थायी या अस्थायी पता, गांव, तहसील, जिला, प्रदेश और देश का नाम लिखना होगा। मेाबाइल और बैंक खाता नंबर भी लिखना होगा।

दस्तावेजों को अपलोड करें

  • फार्म भरने के बाद आवेदकों को जरूरी दस्तावेजों को अपलोड करना होगा। आधार कार्ड या पासपोर्ट की कॉपी को स्कैन कर अपलोड कर सकते हैं।
  • बैंक पासबुक के पहले पेज की फोटो कॉपी को भी कंप्यूटर पर अपलोड करना होगा। इसी तरह हस्ताक्षर और पासपोर्ट साइज फोटो भी अपलोड की जा सकती है।
  • सभी जरूरी दस्तावेजों को अपलोड करने के बाद इन्हें आवेदन फार्म के साथ अटैच करना होगा। इसके बाद सबमिट बटन पर क्लिक कर सकते हैं।

वेबसाइट पर अपडेट रहें

निवेशक एलआईसी की ऑफीशियल वेबसाइट पर विजिट कर प्रधानमंत्री वय वंदना योजना से जुड़ी सभी तरह की जरूरी जानकारी हासिल कर सकते हैं। वेबसाइट पर इस योजना से जुड़े हर पहलु को अपडेट भी किया जाता है। निवेशकों को इसकी जानकारी भी मिलती रहेगी। अगर निवेशक को किसी तरह की शिकायत है तो वेबसाइट के जरिए दर्ज कराई जा सकती है।

बुजुर्गों को मिलेगी मदद

वरिष्ठ नागरिकों को इस स्कीम की वजह से काफी मदद मिलेगी। बड़ी संख्या में ऐसे लोग हैं, जिनके पास बड़ी रकम तो है, लेकिन वे इनका बेहतर इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं। बैंकों में ब्याज दर गिरने के बाद उनका भरोसा और टूट गया है। ऐसे में प्रधानमंत्री वय वंदना योजना उनके लिए वारदान साबित हो रही है। इस स्कीम के तहत बढ़े हुए ब्याज दर के साथ मासिक पेंशन का इंतजाम तो किया गया ही है, मृत्यु, आपदा और घटना के लिए जरूरी इंतजाम भी किए गए हैं। परिवार के सदस्यों को पूरी रकम लौटाया जाएगा, ताकि वे इनका बेहतर इस्तेमाल कर सकें।

Anand Sivastava