पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना (PMYY) | योग्यता | ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन फॉर्म

पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना

केंद्र सरकार शिक्षा और छात्रों, दोनों के लिए गंभीर है। सरकार एक तरफ जहां देश में शिक्षा की गुणवत्ता को सुधारने की पूरी कोशिश में जुटी है, वहीं दूसरी तरफ छात्र-छात्राओं के लिए एक के बाद एक नई योजनाएं भी लागू कर रही है। इस कड़ी प्रधानमंत्री यशस्वी छात्रवृत्ति योजना को लागू किया जा रहा है, जिसके तहत ज्यादा से ज्यादा छात्राओं को लाभांवित करने की कोशिश की जाएगी। केंद्र सरकार ने इसके लिए राज्य सरकारों को नोटिफिकेशन भेजकर इसकी जानकारी दी है। बजट में पैसों में का इंतजाम भी किया गया है। इस आर्टिकल में योजना के लिए पात्रता, दस्तावेज आदि पहलुओं का जिक्र किया जा रहा है। आर्टिकल पर अंत तक बने रहें।

योजना के लिए पात्रता

  • कक्षा नौ की पढ़ाई कर रहे छात्र-छात्राओं से लेकर पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स में दाखिला ले चुके विद्यार्थियों को भी पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना में शामिल किया गया है।
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस महत्वकांक्षी योजना का लाभ उन्हीं विद्यार्थियों को मिलेगा, जो भारत के नागरिक हैं और देश में रहकर पढ़ाई कर रहे हैं।
  • एससी-एसटी, ओबीसी और ईडब्यूएस वर्ग के विद्यार्थियों को इस योजना के तहत लाभांवित किया जाएगा। अनारक्षित वर्ग के आर्थिक रूप से कमजोर छात्र-छात्राओं को भी इसका फायदा मिल सकता है।

मेरिट के आधार पर मिलेगा लाभ

पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना के तहत साल की छमाही में मेरिट टेस्ट का आयोजन किया जाएगा। मेरिट के आधार पर ही विद्यार्थियों को इस योजना के तहत लाभांवित किया जाएगा। चूंकि भारत में बड़ी संख्या में छात्र और छात्राएं हैं, इसलिए सभी को एक साथ लाभांवित नहीं किया जा सकता है। केंद्र सरकार बाद में इस नियम में बदलाव भी कर सकती है।

बैंक में आएगी स्कॉकलरिशप

केंद्र सरकार इस योजना को सफल बनाने के लिए पूरी पारदर्शिता बरतने की कोशिश कर रही है। विद्यार्थियों को वजीफा हासिल करने के लिए किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंकों में सेविंग अकाउंट खुलवाना होगा। छात्रवृत्ति की रकम सीधे बैंक खातों में ही ट्रांसफर की जाएगी। बैंकों को निर्देश दिए गए हैं कि वे विद्यार्थियों का खाता खोलने में किसी तरह की हीलाहवाली करने की कोशिश न करें।

7200 करोड़ का इंतजाम

केंद्र सरकार ने पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना के लिए करीब 6000 हजार करोड़ रुपये का इंतजाम किया था। सरकार ने इसके लिए 1200 करोड़ रुपये का इंतजाम और किया है। इस तरह पूरा बजट 7200 करोड़ कर दिया गया है। सरकार का दावा है कि छात्रवृत्ति के लिए बजट में कमी नहीं की जाएगी। जरूरत पड़ने पर इसे और भी बढ़ाया जा सकता है। सरकार की मंशा है कि ज्यादा से ज्यादा छात्र-छात्राओं को इस योजना के तहत लाभांवित किया जाएग।

फंड का 60 फीसदी भुगतान करेगी केंद्र सरकार

प्रधानमंत्री यशस्वी छात्रवृत्ति योजना के तहत तय फंड के लिए प्रदेश सरकारों को 40 फीसदी रकम का इंतजाम करना होगा। केंद्र सरकार फंड के लिए 60 फीसदी रकम का इंतजाम खुद करेगी। यानी इसमें केंद्र सरकार की बड़ी भूमिका है। राज्य सरकारों को सर्कुलर भेजकर इसकी जानकारी दी गई है। उन्हें समय पर बजट का इंतजाम करने को भी कहा गया है।

जरूरी दस्तावेज

  • स्कूल, कॉलेज और विश्वविद्यालय में पढ़ाई कर रहे छात्र-छात्राओं को इस योजना का लाभ हासिल करने के लिए जरूरी दस्तावेजों को दिखाना होगा।
  • विद्यार्थियों को पारिवारिक सालाना आय के बारे में बताना होगा। इसके लिए आय प्रमाणपत्र भी बनवाना होगा।
  • छात्र-छात्राओं को जातीय प्रमाणपत्र भी दिखाना होगा। जातीय प्रमाणपत्र के आधार पर ही आरक्षित वर्ग के विद्यार्थियों को लाभांवित किया जाएगा।
  • विद्यार्थियों को स्कूल, विश्वविद्यालय कॉलेज से प्राप्त आईडी कार्ड भी दिखाना होगा। एडमिशन फीस की रसीद भी दिखाई जा सकती है।

आईडी और एडरेस प्रूफ भी जरूरी है

छात्रवृत्ति के लिए शैक्षणिक, जातीय और आय प्रमाणपत्रों के साथ विद्यार्थियों को आईडी प्रूफ और एडरेस प्रूफ भी दिखाना होगा। विद्यार्थी इसके लिए आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, निवास प्रमाणपत्र, जन्म प्रमाणपत्र आदि दस्तावेज दिखा सकते हैं। फार्म के साथ पासपोर्ट साइज फोटो को भी अटैच करना होगा।

आरक्षित वर्ग के छात्रों को मिलेगी मदद

प्रधानमंत्री यशस्वी छात्रवृत्ति योजना का सबसे बड़ा फायदा अनुसूचित जाति, अनुसूचित जन जाति, पिछड़ा और अन्य पिछड़ा वर्ग के विद्यार्थियों को मिलेगा। आर्थिक रूप से कमजोर अनारक्षित वर्ग के छात्र-छात्राओं को भी इस योजना के तहत लाभांवित किया जाएगा। केंद्र सरकार ने इसके लिए सभी राज्य सरकारों को नोटिफिकेशन भेज दिया गया है। सरकार की ओर से गाइडलाइंस भी जारी की गई है।

सीनियर सिटीजन करेंगे निगरानी

केंद्र सरकार एक नेशनल प्लान पर काम कर रही है। इस प्लान के तहत देश के वरिष्ठ और जिम्मेदार नागरिकों को पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना के लिए सेवा प्रदान करने को कहा जा सकता है। सरकार इसके लिए प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन भी करेगी, जिसमें सीनियर सिटीजन छात्रों को प्रशिक्षण देंगे।

जारी होगा नया नोटिफिकेशन

केंद्र सरकार इसके लिए नया नोटिफिकेशन भी जारी कर सकती है। चूंकि इस योजना के तहत वितरित की जाने वाली छात्रवृत्ति की रकम का खुलासा नहीं किया गया है, इसलिए जल्द ही इससे संबंधित जानकारी मुहैया कराई जा सकती है। राज्य सरकारों को नोटिफिकेशन जारी कर इसकी रूपरेखा तैयार करने को कहा गया है। जल्द ही नई गाइडलाइंस भी जारी की जा सकती है।

Anand Sivastava