प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना क्या है

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना | PM Kisan Samman Nidhi Scheme

किसान खुश होंगे तो देश खुशहाल हो जाएगा। किसानों की तरक्की में ही देश की तरक्की है। खासकर भारत जैसे देश में, जहां 80 फीसदी लोग किसानी के पेशे से जुड़े हैं। केंद्र सरकार ने इसी को ध्यान में रखते हुए प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की शुरुआत की है। इस योजना के तहत किसानों को जहां आर्थिक रूप से मजबूत किया जा रहा है, उनकी खेती-बाड़ी का भी ख्याल रखा जा रहा है। इस आर्टिकल में पीएम किसान सम्मान निधि योजना के बारे में विस्तार से बताया जा रहा है। योजना के जरूरी शर्तें और पात्रता की जानकारी भी दी जा रही है।

PM Kisan Samman Yojana कब हुई थी शुरुआत

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की शुरुआत 24 फरवरी, 2019 को हुई थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसकी शुरुआत करते हुए इसे किसानों के लिए लाभकारी बताया था। उन्होंने कहा था कि सम्मान निधि योजना की वजह से किसानों को आर्थिक मदद तो मिलेगी ही, उन्हें मानसिक सुकून भी मिलेगा। किसानों की स्थिति बदलेगी। उत्तर प्रदेश सहित ज्यादातर राज्यों में इसे लागू किया गया है।

पीएम किसान सम्मान राशि

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के दूसरे चरण को लागू कर दिया गया है। दूसरे चरण में देश के करीब 3.36 करोड़ किसानों को लाभांवित किया गया है। किसानों के बैंक खातों में पहली किस्त के रूप में 2-2 हजार रुपये भेजे गए हैं। केंद्र की ओर से इसके लिए सभी राज्यों को नोटिफिकेशन जारी किया गया है। योजना से वंचित किसान संबंधित विभागों और नोडल एजेंसी में पहुंचकर इसकी शिकायत कर सकते हैं। 

PM Kisan Samman के तहत हर साल 6 हजार रुपये का वादा

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत देश के ज्यादातर किसानों को लाभांवित करने की प्लानिंग है। किसानों को इस योजना के तहत हर साल 6 हजार रुपये दिए जाने का प्रावधान है। पैसे तीन किस्त के रूप में मिलेंगे। 2-2 हजार रुपये की तीन किस्त तय की गई है। निधि के तहत मिलने वाले पैसे सीधे किसानों के बैंक खातों में भेजे जा रहे हैं। भ्रष्टाचार की कोई गुंजाइश नहीं है। योजना का लाभ हासिल करने के लिए राष्ट्रीयकृत बैंकों में खाता होना जरूरी है। सरकार का दावा है कि इस योजना के तहत अब तक 9 करोड़ किसानों को लाभावंति किया जा चुका है।

योजना के लिए पात्रता

योजना की शुरुआत में सिर्फ उन्हीं किसानों को फायदा मिल रहा था, जिनके पास खेती के लिए दो हेक्टेयर जमीन है। अब इस सीमा को हटा लिया गया है। सभी तरह के किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ मिल रहा है। हालांकि किसानों के पास अपनी जमीन होना जरूरी है। दूसरे की जमीन पर खेती करने वालों को इस योजना के दायरे से बाहर रखा गया है।

किसे नहीं मिलेगा योजना का लाभ

केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के लिए कुछ जरूरी शर्तें भी लागू की हैं। इसका लाभ सिर्फ उन किसानों को मिलेगा, जो मूल रूप से किसानी करते हैं। पेशे से डॉक्टर, इंजीनियर, अधिवक्ता, सीए, आर्किटेक्ट आदि को इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा। किसानी करने के बावजूद इस तरह के लोगों को इस योजना के दायरे से दूर रखा गया है।

योजना के दायरे से बाहर हैं पेंशनर

केंद्रीय या फिर प्रदेशीय विभागों से रिटायर होने के बाद किसानी कर रहे लोगों को भी इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा। खासकर उन कर्मचारियों को, जो पेंशन के रूप में हर महीने दस हजार रुपये से ज्यादा हासिल कर रहे हैं। वित्तीय वर्ष में टैक्स का भुगतान करने वाले आयकर दाता भी इस योजना का लाभ हासिल नहीं कर सकेंगे।

चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी हकदार हैं

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ मल्टी टास्किंग स्टाफ यानी चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को मिलेगा। उन्हें इस स्कीम के दायरे में शामिल किया गया है। उन्हें किसानी के लिए जरूरी दस्तावेजों को दिखाना होगा। निजी संस्थानों में काम कर रहे कर्मचारियों को भी इस योजना के दायरे में रखा गया है।

पीएम किसान योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन करें

  • प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ लेने के लिए केंद्र सरकार की ऑफीशियल वेबसाइट pmkisan.gov.in पर विजिट किया जा सकता है।
  • होम पेज पर farmer corner ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। इसके बाद नीचे दिए गए new Farmers registration ऑप्शन पर क्लिक कर सकते हैं।
  • नए पेज पर आधार नंबर और कैप्चा कोड दर्ज करना होगा। चूंकि डीटेल पहले से मौजूद नहीं है, इसलिए रिकार्ड नॉट फाउंड लिखकर आएगा।
  • आवेदकों को फिर से new Farmers registration पर क्लिक करना होगा। इसके बाद रजिस्ट्रेशन फार्म ओपन हो जाएगा।

PM Kisan Online फार्म के सभी कॉलम को भरें

  • किसान फार्म के सभी कॉलम को अच्छी तरह भरेंगे। नाम, पिता का नाम, गांव, ब्लॉक, जिला और प्रदेश का नाम लिखना होगा।
  • कैटिगरी, खेती, रकबा, बैंक से जुड़ी सभी जानकारी दर्ज करें। इसके बाद जरूरी दस्तावेजों को कंप्यूटर पर अपलोड करें।
  • प्रमाणपत्रों और पासपोर्ट साइज फोटो के साथ हस्ताक्षर को भी अपलोड करें। अपलोड करने के बाद दस्तावेजों को फार्म के साथ अटैच करें।
  • फार्म का सत्यापन करें और फिर save बटन पर क्लिक कर दें। आवेदन प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। मोबाइल पर मेसेज के जरिए इसकी जानकारी दी जाएगी।

जरूरी दस्तावेज (PM Kisan)

  • जमीन के पेपर
  • आधार कार्ड
  • वोटर आईडी कार्ड
  • बैंक खाता
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

आधार वेरिफिकेशन जरूरी

किसान पीएम-किसान पोर्टल पर जाकर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। यह सुविधा सभी किसानों के लिए शुरू की गई है। दूसरे चरण में आधार वेरिफिकेशन जरूरी है। जो लोग इस योजना के तहत रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं और उनके बैंक अकाउंट में अब तक पैसे ट्रांसफर नहीं किए गए हैं तो पोर्टल पर विजिट करें। यहां आधार, मोबाइल और बैंक खाता नंबर दर्ज कर स्टेटस की जानकारी हासिल कर सकते हैं।

पीएम-किसान पोर्टल हेल्पलाइन नंबर

केंद्र सरकार ने किसानों के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है। इस योजना से वंचित किसान लेखपाल, कानूनगो या जिला कृषि अधिकारी से संपर्क करें। अगर यहां सुनवाई नहीं हो रही है या फिर किसी तरह की हीलाहवाली बरती जा रही है तो किसान सरकार के हेल्पलाइन नंबर 155261 या 1800115526 पर फोन कर सकते हैं। 011-23381092 नंबर पर भी फोनकर शिकायत की जा सकती है। ये नंबर 24 घंटे काम करते हैं। किसी भी वक्त इनपर कॉल की जा सकती है।

Anand Sivastava