मुख्यमंत्री फ्री तीर्थि यात्रा योजना क्या है

दिल्ली सरकार न सिर्फ स्कूली बच्चों और महिलाओं के लिए, बल्कि बुजुर्गों के लिए भी बेहतर काम कर रही है। इस कड़ी में मुख्यमंत्री फ्री तीर्थ यात्रा योजना की शुरुआत की गई है, जिसके तहत राज्य के वरिष्ठ नागरिकों को तीर्थस्थ्लों के दर्शन कराए जाएंगे। इस आर्टिकल में योजना के बारे में विस्तार से बताया जा रहा है। योजना के लिए पात्रता और तीर्थस्थलों के नामों की जानकारी भी दी जाएगी। पूरी जानकारी हासिल करने के लिए आर्टिकल पर अंत तक बने रहें।

तीर्थ यात्रा योजना के लिए पात्रता

  • दिल्ली सरकार ने मुख्यमंत्री फ्री तीर्थि यात्रा योजना के लिए कुछ जरूरी शर्तें लागू की हैं। लाभार्थियों को शर्तों और नियमों का पालन करना होगा।
  • योजना का लाभ सिर्फ उन्हीं बुजुर्गों को मिलेगा, जिनकी उम्र 60 साल या इससे अधिक है। उनका जन्म दिल्ली में ही होना चाहिए।
  • योजना का लाभ लेने के लिए बुजुर्गों या उनके परिवार की सालाना आय तीन लाख रुपये से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।
  • सरकारी नौकरी से रिटायर हुए कर्मचारी मुख्यमंत्री फ्री तीर्थ योजना का लाभ हासिल नहीं कर सकते हैं। इसके लिए गाइडलाइंस जारी की गई है।

Mukhyamantri Free Tirth Yatra के लिए हर विधानसभा क्षेत्र से 1100 बुजुर्गों का होगा चयन

  • मुख्यमंत्री फ्री तीर्थ योजना के लिए दिल्ली के हर विधानसभा क्षेत्र से 1100 वरिष्ठ नागरिकों का चयन किया जाएगा।
  • सरकार इसी तरह दिल्ली से हर साल 77 हजार बुजुर्गों को तीर्थ यात्रा पर भेजेगी। इसके लिए लकी ड्रा का आयोजन किया जाएगा।
  • यात्रा के दौरान बुजुर्गों की देखरेख के लिए उनके परिवार के एक व्यक्ति को भी उनके साथ भेजा जाएगा। 18 साल के व्यक्ति उनके साथ शामिल हो सकते हैं।
  • दिल्ली सरकार यात्रा के लिए दोनों के खर्च को उठाएगी। तीर्थ यात्रा का पहला सफर 15 जून से प्रस्तावित है। इसमें बदलाव संभव है।

Tirth Yatra योजना के लाभ

  • वरिष्ठ नागरिकों के लिए इस योजना के तहत तीर्थस्थल पर 3 दिन और 2 रात रुकने की व्यवस्था की गई है। बुजुर्गों को इस अवधि के बाद वापस लौटना होगा।
  • वरिष्ठ नागरिकों को तीर्थ यात्रा के दौरान किसी भी तरह के भुगतान की जरूरत नहीं पड़ेगी। सरकार हर तरह के खर्च को उठाएगी।
  • बुजुर्गों की सुरक्षा के लिए एक उन्हें लाख रुपये तक का बीमा कवर दिया जाएगा। बुजुर्गों को एसी बसों के जरिए भेजा जाएगा।
  • बुजुर्ग अपने हिसाब से तीर्थस्थलों का चयन कर सकते हैं। सरकार की ओर से जारी पोर्टल पर इसकी जानकारी साझा की गई है।

तीर्थस्थलों के नाम

  • दिल्ली-रामेश्वरम-मदुरै-दिल्ली
  • दिल्ली-तिरूपति-दिल्ली
  • दिल्ली-अमृतसर-आनंदपुर साहिब
  • दिल्ली-वैष्णी देवी जम्मू
  • दिल्ली-पुष्कर-अजमेर-दिल्ली
  • दिल्ली-शिरडी-शनि शिंगलापुर दिल्ली
  • दिल्ली-जगन्नाथपुरी-कोणार्क-भूवनेश्वर

तीर्थ यात्रा योजना के लिए जरूरी दस्तावेज

  • आवासीय प्रमाणपत्र
  • आधार कार्ड की कॉपी
  • राशन कार्ड की कॉपी
  • स्वास्थ्य प्रमाणपत्र
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

Mukhyamantri Tirth Yatra Yojana Delhi Online Registration करने की प्रक्रिया

  • दिल्ली सरकार ने मुख्यमंत्री फ्री तीर्थ यात्रा योजना के लिए ऑनलाइन फार्म हासिल करने की व्यवस्था की है।
  • इच्छुक बुजुर्ग सरकार की ऑफीशियल वेबसाइट edistrict.delhigovt.nic.in पर विजिट कर एप्लीकेशन फार्म आसानी के साथ हासिल कर सकते हैं।
  • फार्म के सभी कॉलम को भरने के बाद दस्तावेजों को उसके साथ अटैच करना होगा। पासपोर्ट साइज फोटो को भी अटैच करें।
  • आवेदक इसके बाद फार्म को स्थानीय एमएलए, तीर्थ यात्रा समिति या फिर डीओ ऑफिस में पहुंचकर जमा कर सकते हैं।

तीर्थ यात्रा योजना कब शुरू हुई

मुख्यमंत्री फ्री तीर्थ यात्रा योजना की शुरुआत अगस्त, 2018 में हुई थी। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इसकी शुरुआत की थी। योजना का उद्देश्य राज्य के बुजुर्गों को तीर्थस्लों के दर्शन कराना है। सरकार का मानना है कि ऐसे बुजुर्गों की बड़ी संख्या है, जो आर्थिक रूप से कमजोर होने की वजह से पसंदीदा तीर्थस्थलों के दर्शन के लिए नहीं जा पाते हैं। उन्हें इस योजना का लाभ मिलेगा।

तीर्थ यात्रा के लिए स्थानीय प्रतिनिधि की जिम्मेदारी भी तय

दिल्ली सरकार ने विधायकों और सांसदों की जिम्मेदारी भी तय की है। उम्मीदवारों के चयन में उनका ख्याल रखा जाएगा। वरिष्ठ नागरिकों को स्थानीय प्रतिनिधियों से संपर्क करने को कहा गया है। फार्म भी एमएलए और सांसदों के पास जमा कराए जा सकते हैं। इसके लिए एक समिति का गठन भी किया गया है, जो पूरी प्रक्रिया पर नजर रखेगी। योजना को अच्छी तरह से क्रियांवित किया जाएगा।