मध्य प्रदेश बेरोजगारी भत्ता योजना | ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, पात्रता क्या है

मध्य प्रदेश बेरोजगारी भत्ता योजना | MP Berojgari Bhatta

देश में बेरोजगारी बढ़ी है। रोजगार के अवसर कम हो रहे हैं। उच्च शिक्षा हासिल करने के बाद भी युवाओं को नौकरी के लिए भटकना पड़ रहा है। मध्य प्रदेश सरकार ने इसको गंभीरता से लिया है। यही वजह है कि प्रदेश के बेरोजगार छात्र-छात्राओं को भत्ता देने की योजना पर तेजी से काम शुरू हो गया है। अगर सब ठीक रहा तो युवाओं और युवतियों को भत्ते के रूप में मुनासिब राशि प्रदान की जाएगी। उनके लिए रोजगार के अवसर भी पैदा किए जाएंगे। इस आर्टिकल में योजना के बारे में विस्तार से बताया जा रहा है। योजना की पात्रता और बेरोजगारी भत्ता की राशि का जिक्र भी किया जा रहा है। 

बेरोजगारी भत्ता योजना के लिए पात्रता

  • मध्य प्रदेश सरकार द्वारा शुरू की जा रही बेरोजगारी भत्ता योजना का लाभ उन्हें मिलेगा, जो कक्षा 12 की पढ़ाई पूरी कर चुके हैं।
  • 12वीं कक्षा पास करने के बाद ग्रेजुएशन या पोस्ट ग्रेजुएशन कर रहे छात्र-छात्राओं को भी बेरोजगारी भत्ता मिलेगा।
  • बेरोजगारी भत्ता उन छात्र-छात्राओं को ही मिलेगा, जो मूल रूप से बेरोजगार हैं और रोजगार दफ्तर में उनका पंजीकरण है।
  • इस योजना का लाभ वही बेरोजगार युवा ले सकते हैं, जिनकी उम्र 21 से 35 साल के बीच है। टेक्निकल कोर्स करने वाले भी हकदार होंगे।

सालाना आय तीन लाख से कम हो

  • बेरोजगारी भत्ता योजना का लाभ उन्हीं छात्र-छात्राओं को मिलेगा, जिनके परिवार की सालाना आय तीन लाख रुपये से कम है।
  • जिस परिवार की सालाना आय तीन लाख रुपये से ज्यादा है, उससे संबंध रखने वाले छात्रों को इसका लाभ नहीं मिलेगा।
  • छात्र-छात्राओं के लिए जरूरी है कि वे मध्य प्रदेश के मूल निवासी हों। दूसरे प्रदेश के युवाओं को इसका लाभ नहीं मिल सकेगा।
  • सरकार ने इसी तरह दूसरे कई नियम बनाए हैं, जिनका पालन करना होगा। संबंधित विभागों को सर्कुलर भेजा गया है।

3500 रुपये की व्यवस्था

मध्य प्रदेश सरकार द्वारा शुरू की जा रही बेरोजगारी भत्ता योजना के तहत बेरोजगार युवाओं और बालिकाओं, दोनों को भत्ता दिया जाएगा। रिपोर्ट के अनुसार युवाओं को भत्ते के रूप में हर महीने तीन हजार रुपये तक दिए जा सकते हैं। जबकि बालिकाओं को भत्ते के रूप में हर महीने करीब साढ़े तीन हजार रुपये दिए जाएंगे। दिव्यांगों को भत्ते के रूप में हर महीने चार हजार रुपये तक दिए जा सकते हैं।

बैंक में ट्रांसफर होगी राशि

मध्य प्रदेश सरकार बेरोजगारी भत्ता की राशि सीधे बैंकों में ट्रांसफर करेगी। योजना का लाभ लेने किे लिए जरूरी है कि आवेदकों के पास अपना खाता हो। राष्ट्रीयकृत बैंकों के खाताधारकों को इस योजना का लाभ मिलेगा। अगर किसी का खाता प्राइवेट बैंक में है तो उसे राष्ट्रीयकृत बैंक में नया खाता खुलवाना होगा। मध्य प्रदेश सरकार डीबीटी योजना के तहत सभी को लाभांवित करेगी।

एक लाख युवाओं को मिलेगा फायदा

  • प्रदेश सरकार द्वारा शुरू की जा रही बेरोजगारी भत्ता योजना के तहत करीब एक लाख बेरोजगार युवाओं को भत्ता दिया जाएगा।
  • योजना के शुरुआती फेज के बाद प्रदेश में बेरोजगारी भत्ता पाने वाले युवाओं की संख्या बढ़ भी सकती है।
  • पिछली सकरार में बालिकाओं को सिर्फ 600 रुपये दिए जाते थे, जो अब एक तरह से छह गुना ज्यादा हो गया है।
  • युवाओं को भत्ते के रूप में हर महीने 750 रुपये दिए जाते थे, जिनमें पांच गुना की बढ़ोतरी की गई है।
  • प्रदेश में 10 लाख से ज्यादा बेरोजगारों का पंजीकरण है, लेकिन माना जा रहा है कि शुरू में एक लाख बेरोजगारों को ही भत्ता दिया जाएगा।

जरूरी दस्तावेज

  • वोटर आईडी कार्ड
  • सालाना आय प्रमाणपत्र
  • राशन कार्ड की कॉपी
  • स्थाई मोबाइल नंबर
  • स्थाई मेल आईडी
  • परीक्षाओं के अंक पत्र
  • परीक्षाओं के प्रमाणपत्र

MP Berojgari Bhatta के लिए कैसे करें आवेदन

  • बेरोजगारी भत्ते के लिए ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है। ऑनलाइन आवेदन के लिए मध्य प्रदेश सरकार की ऑफीशियल वेबसाइट mprojgar.gov.in पर विजिट करना होगा।
  • ऑनलाइन आवेदन के लिए click here ऑप्शन पर क्लिक कर सकते हैं। इसके बाद जिला का चयन करना होगा।
  • यहां एप्लीकेशन फार्म पर ई-मेल और मोबाइल नंबर लिखें। अपना और पिता का नाम लिखें। जन्म स्थान, जन्मतिथि लिखें।
  • फार्म पर सभी जरूरी जानकारी दर्ज करने के बाद “आगे बढ़ें” ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • अगले पेज पर शैक्षणिक योग्यता, व्यवसाय, उम्र आदि के बारे में लिखना होगा। सालाना आय के बारे में भी बताना होगा।

दस्तावेजों को अपलोड करें

  • आवेदक एप्लीकेशन फार्म पर सभी जरूरी जानकारी दर्ज करने के बाद दस्तावेजों को अपलोड करेंगे।
  • आय प्रमाणपत्र, आधार कार्ड, शैक्षणिक प्रमाणपत्र और पासपोर्ट साइज फोटो को अपलोड करना होगा।
  • सभी जरूरी दस्तावेजों को अपलोड करने के बाद उन्हें आवेदन फार्म के साथ अटैच कर सकते हैं।
  • विद्यार्थी इसके बाद जमा करें ऑप्शन पर क्लिक कर सकते हैं। उनका आवेदन पूरा हो जाएगा। प्रिंट आउट निकाल सकते हैं।

10 लाख युवाओं ने कराया पंजीकरण

मध्य प्रदेश में बेरोजगार युवाओं की संख्या 10 लाख से ज्यादा है। यह रोजगार दफ्तर के आंकड़े हैं। वास्तव में प्रदेश के अंदर बेरोजगार युवाओं की संख्या कितनी है, इसका सही अनुमान लगा पाना मुश्किल है। सरकार ने फिलहाल एक लाख बेरोजगार युवाओं और बालिकाओं को इस योजना के तहत लाभाविंत करने की तैयारी की है। सरकारी नुमाइंदों के मुताबिक पहले फेज में एक लाख लोगों को भत्ता दिया जाएगा। दूसरे फेज में इसकी संख्या बढ़ भी सकती है।

Anand Sivastava