बिहार बेरोजगारी भत्ता | (MNSSBY) पात्रता, ऑनलाइन आवेदन

बिहार बेरोजगारी भत्ता योजना

बिहार सरकार बेरोजगार युवाओं को वित्तीय सहायता प्रदान कर रही है। bihar berojgari bhatta योजना के तहत प्रदेश के बेरोजगार युवाओं और युवतियों को भत्ता दिया जा रहा है। खास बात यह है कि भत्ता देने के साथ युवाओं को अलग-अलग योजनाओं के तहत रोजगार के अवसर भी प्रदान किए जा रहे हैं। इसके लिए निजी संस्थानों की मदद भी ली जा रही है। इस आर्टिकल में राज्य सरकार द्वारा संचालित बेरोजगारी भत्ता योजना के बारे में बताया जा रहा है। योजना के लिए आवेदन करने का तरीका और पात्रता सहित कई दूसरे पहलुओं को भी साझा किया जा रहा है।

भत्ते की राशि कितनी है

बिहार सरकार द्वारा शुरू की गई इस योजना की वजह से लोगों को फायदा मिल रहा है। खासकर उन्हें, जिनके पास फिलहाल किसी तरह का रोजगार नहीं है। सरकार इस योजना के तहत बेरोजगार युवा और युवतियों को बेरोजगारी भत्ते के रूप में हर महीने 1000 हजार रुपये दे रही है। इसके लिए बजट में करोड़ों रुपये की व्यवस्था की गई है। लाभार्थियों की संख्या बढ़ाने पर विचार किया जा रहा है।

योजना के लिए पात्रता | Eligibility

  • स्वयं सहायता बेरोजगारी भत्ता योजना का लाभ सिर्फ बेरोजगार युवाओं को ही दिया जा रहा है। इंटरमीडिएट की परीक्षा पास चुके विद्यार्थी ही पात्र हैं।
  • बिहार सरकार द्वारा शुरू की गई इस योजना का लाभ वही लोग ले सकते हैं, जिनकी उम्र 20 से 25 साल के बीच है।
  • जो मूल रूप से बिहार राज्य के निवासी हैं। उन्हें ही इसका फायदा मिल सकता है। दूसरे प्रदेश के निवासियों को कंसीडर नहीं किया जाएगा।
  • जो लोग इस योजना के तहत आवेदन करना चाहते हैं, उनके पास किसी भी तरह का रोजगार नहीं होना चाहिए।

कंप्यूटर की नॉलेज जरूरी

  • खास बात यह है कि इस योजना का फायदा हासिल करने के लिए युवाओं को कंप्यूटर की बेसिक नॉलेज होना जरूरी है।
  • अगर उनके पास कंप्यूटर की नॉलेज नहीं है तो पहले उन्हें कंप्यूटर कोर्स कर लेना चाहिए। इसके बाद आवेदन करें।
  • बेरोजगारी भत्ता योजना का फायदा सिर्फ उन्हीं छात्र-छात्राओं को मिल सकता है, जिनकी पारिवारिक सालाना आय तीन लाख रुपये से कम है।

जरूरी दस्तावेज | Documents

  • आधार कार्ड की कॉपी
  • इनकम सर्टिफिकेट
  • वोटर आई कार्ड
  • बिहार का बोनाफाइड
  • मूल निवासी प्रमाणपत्र
  • अंक और प्रमाणपत्र

Bihar Berojgari Bhatta ऑनलाइन आवेदन करें

  • मुख्यमंत्री नितीश कुमार की अगुवाई में शुरू की गई bihar berojgari bhatta Online आवेदन भी किया जा सकता है।
  • ऑनलाइन आवेदन के लिए बेरोजगार युवाओं और युवतियों को सरकार की ऑफीशियल वेबसाइट yuvaupmission.bihar.gov.in पर विजिट करना होगा।
  • अफीशियल वेबसाइट पर विजिट करने के बाद इस योजना से जुड़ा लिंक दिख जाएगा, जिसपर क्लिक करना होगा।
  • लिंक को ओपन करने के बाद बेरोजगारी भत्ता के लिए एप्लीकेशन फार्म दिख जाएगा। आवेदन फार्म पर क्लिक करना होगा।

सभी कॉलम को भरें

  • फार्म को अच्छी तरह पढ़ने के बाद योजना से जुड़ी, जो भी जानकारी मांगी जा रही है, उन्हें अलग-अलग कॉलम पर दर्ज करें।
  • फार्म पर जो भी कॉलम दिखाई दे रहे हैं, उन्हें कायदे से भरें। गड़बड़ी होने पर फार्म सबमिट नहीं होगा।
  • सभी कॉलम को ठीक तरह से भरने के बाद सभी जरूरी दस्तावेजों और पासपोर्ट साइज फोटो को फार्म के साथ अटैच करें।
  • इसके बाद सबमिट का ऑप्शन दिखाई पड़ेगा। आवेदक इस ऑप्शन पर क्लिक कर सकते हैं। फार्म भरने की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

ऑफलाइन आवेदन भी

बेरोजगार युवा और युवतियां ऑफलाइन आवेदन भी कर सकती हैं। आवेदन के लिए उन्हें सेवायोजन कार्यालय तक जाना होगा। उन्हें यहां इस योजना से जुड़ा एक फार्म भरना होगा। फार्म के साथ जरूरी दस्तावेजों और पासपोर्ट साइज फोटो को अटैच करें। सभी जानकारी दर्ज करने के बाद फार्म को रोजगार दफ्तर में ही जमा करें। फार्म पूरी तरह निशुल्क है। उन लोगों को ही इस योजना का फायदा मिल सकता है, जो सेवायोजन कार्यालय में नियमानुसार पंजीकृत हैं। 

बदल रहे हालात

नितीश कुमार की सरकार द्वारा शुरू की गई बेरोजगारी भत्ता योजना के तहत उन युवाओं और युवतियों की मदद की जा रही है, जिनके पास किसी अभी तक रोजगार नहीं है। सरकार का मकसद है कि शुरू में जरूरतमंदों को भत्ता दिया जाए और बाद में उन्हें रोजगार से जोड़ दिया जाए। एक मकसद यह भी है कि सिविल सर्विसेज वगैरह की तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों को फार्म के खर्च के लिए परिवार की मदद की जरूरत न पड़े।

निजी संस्थानों की उपयोगिता

बिहार सरकार का मानना है कि सरकारी विभागों में खाली पदों के हिसाब से ही भर्ती की जा सकती है। यह काम जारी है। बेरोजगार युवाओं के लिए निजी संस्थानों में भी अवसर की तलाश की जा रही है। इसके लिए उनसे बात की जा रही है। संबंधित विभागों का यह भी कहना है कि सेवायोजन कार्यालय के जरिए युवाओं को अलग-अलग निजी संस्थानों में भर्ती किया जा रहा है।

Anand Sivastava