revenueassam.nic.in | असम भूलेख ऑनलाइन खसरा खतौनी जमाबंदी, Assam Bhulekh ILRMS

असम सरकार ने प्रदेश के मूल निवासियों को ऑनलाइन भूलेख रिकार्ड हासिल करने की सुविधा प्रदान की है। जो लोग जमीन के रिकार्ड हासिल करना चाहते हैं, खासकर खसरा, खतौनी और जमाबंदी से जुड़े हुए तो वे सरकार की ओर से जारी पोर्टल पर विजिट कर यह कर सकते हैं। पोर्टल पर जमीन से जुड़ी हुई दूसरी सभी जरूरी जानकारी भी दर्ज की गई है, ताकि लोगों को संबंधित विभागों के चक्कर न काटने पड़े। इस आर्टिकल में ऑनलाइन भूलेख खसरा-खतौनी और जमाबंदी हासिल करने के बारे में विस्तार से बताया जा रहा है। पूरी जानकारी हासिल करने के लिए आर्टिकल पर अंत तक बने रहें। 

एनआरसी के दौरान बढ़ी असम भूलेख की अहमियत

असम में हुई एनआरसी के दौरान बड़े पैमाने पर जमीन के रिकार्ड खंगाले गए थे। लोग संबंधित विभागों के चक्कर काट रहे थे। चूंकि एनआरसी के दस्तावेजों में जमीन के रिकार्ड को भी शामिल किया गया था, इसलिए जिनके पास घर या जमीन थी, वे इसका रिकार्ड लेकर प्रशासन के पास पहुंचे थे। एनआरसी में जमीन के मालिकान को तवज्जो दी गई थी। कई मामलों में इसी आधार पर उन्हें असम का निवासी भी मान लिया गया था, जिसकी वजह से उनकी नागरिकता बच गई।

ऑनलाइन खसरा-खतौनी, जमाबंदी चेक करें

  • असम सरकार ने ऑनलाइन खसरा-खतौनी और जमाबंदी हासिल करने की व्यवस्था की है। इसके लिए असम ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल लांच किया गया है।
  • राज्य के लोग इस पोर्टल पर पहुंचकर जमीन से जुड़े अभिलेख हासिल कर सकते हैं। इसलिए सबसे पहले revenueassam.nic.in पर विजिट करें।
  • आवदेकों को सबसे पहले पंजीकरण करना होगा। होम पेज पर साइन-इन ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद पोर्टल में रजिस्टर के लिए क्रीएट अकाउंट ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। यहां पूरी गई जानकारी दर्ज करें।

ई-मेल आईडी लिखें |Revenue Assam Jamabandi Online

  • रजिस्ट्रेशन फार्म के सभी कॉलम को अच्छी तरह भरना होगा। अपना नाम, जन्म स्थान, जन्मतिथि के साथ ई-मेल आईडी लिखना होगा।
  • टेक्सट वेरिफिकेशन कोड डालने के बाद सेव बटन पर क्लिक कर सकते हैं। रजिस्ट्रेशन के बाद ई-मेल के जरिए एलर्ट लिंक भेजा जाएगा।
  • एलर्ट लिंक पर क्लिक करते ही अकाउंट सक्रिय हो जाएगा। इसके बाद नाम और पासवर्ड का इस्तेमाल कर पोर्टल पर लॉगइन कर सकते हैं।
  • पोर्टल पर लॉगइन करने के बाद असम रिकार्ड ऑफ राइट्स की प्रमाणित प्रति के रूप में प्रमाणपत्र सेवा का चयन कर सकते हैं।

Assam Bhulekh का डिटेल सामने आ जाएगी

  • प्रमाणपत्र सेवा का चयन करने के बाद लिंक के जरिए अगले पेज पर पहुंच सकते हैं। यहां पूरी डिटेल मिल जाएगी।
  • राजस्थ्व ग्राम संख्या और नाम, दाग और पट्टा नंबर, क्षेत्र, भूमि वर्ग, आवेदक का विवरण और प्रमाणपत्र लगाने का कारण आदि जानकारी मांगी जाएगी।
  • आवेदक अब अपनी जरूरत के हिसाब से किसी भी ऑप्शन पर क्लिक कर इसे सेव कर सकते हैं। नेक्सट के जरिए पूरी डिटेल हासिल कर सकते हैं।
  • राज्य के लोग इस पोर्टल के जरिए जमीन से जुड़े सभी तरह के रिकार्ड का प्रिंट आउट निकाल सकते हैं। भविष्य में यह काम आ सकता है।

खसरा खतौनी जमाबंदी को ऑनलाइन ट्रैक कर सकते हैं

  • राज्य के लोगों द्वारा असम ई-पोर्टल के जरिए आवेदन की स्थिति को ऑनलाइन ट्रैक किया जा सकता है।
  • इसी तरह डिजिटल रूप से हस्ताक्षरित भूमि होल्डिंग प्रमाणपत्र को डाउनलोड भी किया जा सकता है।
  • प्रमाणपत्र संख्या प्रदान कर सबमिट बटन पर प्रेस करके रिकार्ड हासिल किया जा सकता है। रिकार्ड की प्रति को डाउनलोड भी कर सकते हैं।
  • सर्किल कार्यालय में मूल्यांकन और सालाना पट्टों के लिए अधिकार रजिस्टर के रिकार्ड अलग-अलग रखे गए हैं।

Revenue Assam Online के तहत ये जानकारी हासिल कर सकते हैं।

  • मिट्टी के प्रकार
  • जमीन का सर्वे नंबर
  • स्वामित्व में परिवर्तन
  • सिंचाई का प्रकार
  • जमीन का क्षेत्रफल
  • आरोपों का विवरण
  • ऋण का विवरण
  • फसलों के प्रकार
  • अवैतनिक कर
  • मुकदमों के बारे में   

असम भूलेख के जरिये सदस्यों के नाम देख सकते हैं

जमीन का मालिक कौन है, इसका जिक्र तो रिकार्ड में रहता ही है, बल्कि उसके परिवार के सदस्यों के नाम भी दर्ज किए जाते हैं। ऐसा इसलिए किया जाता है, ताकि भविष्य में दूसरे लोग जमीन पर मालिकाना हक के लिए दावा न ठोक सकें। एक जैसे नाम की संभावना को ध्यान में रखते हुए रिकार्ड में मालिक के पिता के साथ दूसरी जरूरी चीजों को भी दर्ज किया जाता है। इस स्थिति में एक जैसे दो नाम की जांच की जा सकती है।

Revenue Map Online Assam

जमाबंदी को भूलेख दस्तावेज और रिकार्ड भी कहा जा सकता है। इसमें जमीन से संबंधित हर तरह की जानकारी मौजूद है। जमीन या घर की लोकेशन, उसकी लंबाई-चौड़ाई, मालिक का नाम, लैंड यूज आदि का जिक्र है। लोकेशन के जरिए कोई भी व्यक्ति यह पता कर सकता है कि जमीन कहां पर स्थित है। इसमें जिला, प्रदेश, ग्राम, मुहल्ला, तहसील का नाम दर्ज है।

Anand Sivastava

Leave a Reply